About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting - Income Reports

लड़का और आइसक्रीम – उदारता की कींमत समझों

ये कहानी है एक ऐसे बच्चे की जो छोटा होकर भी बहुत बड़ा है। कैसे? जानने के लिए कहानी पढ़े –

bachha aur icecream ki kahani

बच्चा और आइसक्रीम

बच्चा और आइसक्रीम की कहानी – उदारता की कींमत समझों/ The Story Of A Boy And Ice cream In Hindi


एक बार एक गांव में बहुत ही सस्ते दाम में आइसक्रीम मिल रही थी। वो उस गांव का सबसे बड़ा और पहला ऐसा होटल था जहा पर इतनी सस्ती आइसक्रीम मिलती थी।

एक दिन एक छोटासा 10 साल का बच्चा उस होटल में गया। और वहा पर जाकर एक टेबल के पास गया और एक छोटा स्टूल (stool) लेकर उसपर बैठ गया। वो लड़का पहली बार इतने शानदार होटल में आया था। और वो बस टेबल के पास खुर्ची लेकर बैठा रहा और अपने आसपास के माहौल को देखने लगा क्यू की ये सब उसके लिए बहुत नया था और वो पहली बार ऐसा माहौल देख रहा था।

कुछ दो से चार मिनट बाद वहा एक महिला वेटर आई और उस लडके को ऑर्डर के लिए पूछा। अब लडके को वहा के दाम तो पता नहीं थे बस वो इतना जानता था की आइसक्रीम सस्ती मिलती है पर कितने की आती है ये नहीं जानता था।

उसने उस महिला वेटर से ice cream sundae (एक लोकप्रिय बादाम, काजू, पिस्ता युक्त स्वादिष्ट आइसक्रीम) की कीमत पूछी। तो उसपर महिला वेटर ने जवाब दिया की 50 cents की मिलती है।

बच्चे ने अपनी जेब में हाथ डाला और कुछ छुट्टे पैसे निकाले और एक एक करके धीरे धीरे गिनने लगा। उसके पास खड़ी महिला वेटर उसे बोली की मुझे और भी ग्राहक है! उसपर वो 10 साल का छोटासा बच्चा बोला की एक plain ice cream कितने की आती है?? उस महिला वेटर ने उस बच्चे की तरफ तिरछी नजरो से देखा और कठोर सुर में बोली – 35 cents.

उस बच्चे ने फिर से अपने सिक्के गिनना शुरू कर दिया और थोड़ी देर बाद बोला की मुझे एक प्लेन आइसक्रीम डिश ही चाहिए। फिर उस बच्चे ने टेबल के काउंटर पर 35 सेंट्स रखे और वो महिला वेटर उन सिक्को को झट से उठाकर ले गयी और एक प्लेन आइसक्रीम लेकर बच्चे के टेबल पर रखी और वहा से दूसरे ग्राहकों के पास चली गयी।

तकरीबन 10 मिनट बाद जब वो महिला वापस उस टेबल से गुजर रही थी तो उसने देखा की वो बच्चा वहा नहीं है और वो आइसक्रीम का गिलास भी खाली था और वो लड़का वहा से चला गया था। जब वो महिला वेटर उस टेबल से गिलास उठाने लगी और गिलास को थोडासा उठाकर चलने लगी तभी वो टेबल की तरफ आश्चर्य से देखकर रुक गयी। और उसकी जुबान एकदम चुप हो गयी।

क्यू की उस टेबल पर उस बच्चे ने 15 सेंटस रखे हुए थे, उस महिला वेटर के टिप के स्वरुप में।

उस बच्चे के पास 50 सेंट्स थे और वो चाहता तो आइसक्रीम sundae भी ऑर्डर कर सकता था। पर उसने उस महिला को टिप देना अपने पेट से जरूरी समझा।

तो दोस्तों अब आप ही बताइये ये बच्चा इतना छोटा होकर भी कितना बड़ा काम कर गया। पर क्या हम ऐसा करते है? नहीं ना, तो दोस्तों अपनी सोच को बदलिये… उदारता की पॉवर (शक्ति) को पहचानिये और उदार बनिए।

अगर आपको मेरी ये कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे और हमें ईमेल से फ्री में subsribe करके हमारे सारे लेखो की सूचना अपने ईमेल में पाये। हमें सोशल मीडिया पर follow करना भी न भूलियेगा। अगर आप भी अपनी कहानी यहा देखना चाहते हो तो अपनी कहानी अपने फ़ोटो के साथ हमें contactsuccessveda@gmail.com पर भेज दे। उसे हम आपके नाम और फ़ोटो के साथ यहा publish करेंगे। धन्यवाद।

संबंधित लेख –


Subscribe Us Via Email

Content Delivery By Success Veda

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *