About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting - Income Reports

Hindi vs Hinglish – Blogging Ke Liye Konasi Language Sahi Hai?

​ नमस्कार दोस्तों आज इस पोस्ट में हम हिंदी ब्लॉगर के लिए hinglish language में लिखना बेहतर है या hindi language में इसके बारे में जानेंगे और इससे पहले वाले पोस्ट में हमने Blogger blogger template change kaise kare इसके बारे में जाना था तो चलिए शुरू करते है हमारा आज का hindi vs hinglish का discussion. पर पहले hindi और hinglish के बारे में जान लेते है कि इन दोनों में क्या फर्क है?

Hindi vs hinglish

Hindi vs Hinglish Guide

Hindi vs Hinglish – दोनों में क्या diffrence है?

सबसे पहले हम हिंदी लैंग्वेज किसे कहते हैं इसके बारे में जानते हैं

  • Hindi language क्या है?

हम जो हिंदी किताबें पढ़ते हैं उन में जो लैंग्वेज use होती है उसको हम हिंदी  भाषा  कर सकते हैं।  और हिंदी लैंग्वेज का एक example देना हो तो आप अभी जो लैंग्वेज पढ़ रहे हैं वह हिंदी भाषा है यह हम सभी जानते हैं फिर भी अगर आपको हिंदी के बारे में और जानकारी पढ़नी हो तो आप hindi wikipedia page पर पढ़ सकते हैं।  पर शायद आपको पता ना हो पर भारत देश के आलावा भी हिंदी भाषा और कई देशों में बोली जाती है और पढ़ी जाती है।

  • Hinglish language क्या है?

अगर सीधे शब्दों में कहना हो तो हिंग्लिश एक तरह से हिंदी और english भाषा का मिश्रण है।  यह वह लैंग्वेज है जिसमें हम हिंदी कंटेंट लिखने के लिए इंग्लिश अल्फाबेट्स का इस्तमाल करते हैं। उदाहरण के तौर पर अगर मुझे hindi vs hinglish – ब्लॉगिंग के लिए कौनसी भाषा बेहतर है ऐसा लिखना होगा तो यह हिंग्लिश में Hindi vs hinglish – blogging ke liye Konasi bhasha behatar hai ऐसा लिखा जाता है। अगर आपको हिंग्लिश के बारे में ज्यादा पढ़ना हो तो आप Hinglish Wikipedia page पर पढ़ सकते है।

अब हमने दोनों लैंग्वेज के बारे में थोड़ी बेसिक बाते जान ली गई तो चलिए अब शुरू करते हैं हमारा hindi vs hinglish का guide…

जैसे कीे हम सब जानते है कि google आज कल hindi language को ज्यादा support करने लगा है। और google ने कुछ दिन पहले ही अपना नया feature “बेहतर हिंदी परिणामों के लिए यहां दबाये” भी launch किया है। जिससे सभी hinglish content publish करने वाले ब्लॉगर्स के मन में एक ही सवाल ने तहलका मचा दिया है वह है कि कही google भविष्य में hinglish language को सपोर्ट करना बंद तो नहीं कर देगा? और hindi content publish करना शुरू कर दिया तो क्या ये reders के लिए ठीक रहेगा?

और इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए आज हम आपके साथ hindi vs hinglish language का यह comparison करने वाला पोस्ट शेयर करने जा रहे हैं जिससे आपको अपने ब्लॉग पोस्ट hindi में लिखें या hinglish में यह decide करने में आसानी होगी। तो चलिए हमारा hindi vs hinglish language guide शुरू करते है।

Hindi vs Hinglish – Konasi Language Me Blogging Kare?

यहां आज मैं आपको hindi and hinglish language को लेकर blogging में हो रहे बदलाव के बारे में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहा हूं जिसके बारे में जानकर आप आसानी से यह निर्णय ले सकते हो कि अपने ब्लॉग पोस्ट (blog content) लिखने के लिए hindi vs hinglish कोनसी language सही है।

कुछ लोगों का मानना है कि हिंदी के मुकाबले hinglish में blog content publish करने पर ज्यादा organic traffic मिलता है पर मेरे खयाल से यह बात बिल्कुल गलत है क्योंकि अगर हम Quality Content publish नहीं करेंगे तो हमें organic traffic मिल ही नहीं सकता फिर चाहे वह hindi language में लिखा हो या hinglish language में…

तो आखिर हमें अपनी आर्टिकल्स हिंदी language में लिखने चाहिए या hinglish में यह हम नीचे अलग-अलग बातों को compare करके decide करते हैं।

  • Google के decisions और support

जैसे कि हम सब जानते हैं कुछ दिनों पहले ही गूगल ने अपना एक नया feature ‘बेहतर हिंदी परिणामों के लिए यह दबाएं‘ launch किया है जिससे कि अगर कोई hinglish में सर्च करता है तो वो keywords Hindi font मैं translate हो जाते हैं और इससे हिंदी फॉन्ट में लिखे हुए content top rank पर आ रहे है।

For example, अगर में google में “hindi vs hinglish kis language blogging karani chahiye” ऐसा सर्च करता हो तो वो “हिंदी वर्सेस हिंग्लिश किस लैंग्वेज में ब्लॉगिंग करनी चाहिए” इस प्रकार कंवर्ट हो रहा है और हिंदी फॉन्ट में लिखें content टॉप रैंक पर आ रहे हैं। जिससे यह बात साफ पता चलती है कि google अब hindi vs hinglish के इस competition में हिंदी भाषा को ज्यादा सपोर्ट कर रहा है और इससे hinglish blogs के अस्तित्व के लिए खतरा निर्माण हो चुका है।

  • Alexa Rank

किसी भी blog के लिए एक अच्छी alexa rank होना बहुत जरूरी होता है। एक तरह से good alexa rank  होने का मतलब है वो blog भी अच्छा है। इसलिए हम इस hindi vs hinglish language के competition में alexa rank को भी ध्यान में रखते हुए ब्लॉग पोस्ट लिखने के लिए कौनसी लैंग्वेज better है यह decide करेंगे।

दोस्तों में खुद इससे पहले चार अलग-अलग hinglish blogs पर work कर चुका हूं और अब मैं सक्सेस वेद पर hindi में ब्लॉगिंग कर रहा हूँ। और इस कार्यकाल के दौरान मैंने यह बात नोटिस की है कि जब मैं hinglish blog पर work कर रहा था तब उन सब blogs की alexa rank बहुत ही लंबे समय बाद show होने लगी थी और जल्दी improve भी नहीं हो रही थी और जब मैंने successveda पर हिंदी फॉण्ट में पोस्ट लिखना शुरू किया तो बहुत ही जल्द Alexa rank show होने लगी और बहुत ही कम समय में और जल्दी जल्दी improve भी हो रही है। hindi vs hinglish के इस guide में ये बात भी मैंने आपको बतानी जरूरी समझी।

इससे यह बात साबित होती है कि जब हम हिंदी फोंट में अपने ब्लॉग के पोस्ट लिखते हैं तो Alexa rank भी बहुत जल्दी-जल्दी improve होने लगती है।

  • Typing Speed

Hindi vs hinglish language में ये एक ही हिंदी का लॉस है। मतलब अगर हम हिंदी भाषा में blog की पोस्ट लिखते हैं तो यकीनन hinglish के मुकाबले blog post लिखने में ज्यादा टाइम लगता है जब की हिंदी के मुकाबले hinglish  टाइप करना बहुत ही आसान काम है। और बहुत से hinglish bloggers हिंदी में टाइप भी नहीं कर पाते पर ऐसे में गूगल हिंदी इनपुट टूल (Google hindi input tools) और मोबाइल के लिए गूगल इंडिक कीबोर्ड (Google indic keyboard) यह दो google की दी हुई facilities एक हिंदी ब्लॉगर के लिए वरदान से कम नहीं है। इसका उपयोग करके हम बड़ी आसानी से hinglish में टाइप करके उसका हिंदी में output पा सकते हैं।

पर फिर भी अगर हमें हिंदी font में हमारे ब्लॉग पोस्ट लिखने हैं तो hinglish के मुकाबले ज्यादा टाइम तो लगेगा ही। इसलिए अगर हमें हिंदी content लिखना है तो ब्लॉग पोस्ट लिखने के लिए पहले से एक्स्ट्रा टाइम निकालना होगा।

  • Readers

किसी भी निर्णय तक जाने से पहले हमें एक बार हमारी blog readers के बारे में जरुर सोच लेना चाहिए,  क्योंकि readers ही हर  ब्लॉग का अहम हिस्सा होता है।  इसीलिए अगर आप अभी न्यू ब्लॉगर और अभी आपके ब्लॉग पर अभी ज्यादा ट्रैफिक नहीं है तो आप Hindi Language में ब्लॉग पोस्ट लिख सकते है। पर अगर आप एक hinglish ब्लॉग चला रहे है और उसपर पाकिस्तान से अच्छा ट्रैफिक आता है तो मैं आपको आगे भी hinglish में ही लिखना suggest करूंगा क्योंकि पाकिस्तान के लोग हिंदी फॉन्ट में लिखे गए  कंटेंट को अच्छे से समझ नहीं पाते है।

  • SEO – search engine optimization

मुझसे कुछ लोगों ने facebook पर कहा था कि अगर हम हिंदी फॉन्ट में लिखेंगे तो उसका Search Engine Optimization कैसे कर पाएंगे। और कुछ का तो यह भी कहना है कि हिंदी फॉन्ट में लिखे गए content का SEO करना बहुत ही मुश्किल है। और हम हिंदी फॉन्ट में english keywords कैसे use कर सकेंगे।

मेरे ख़याल से hinglish के मुक़ाबले हिंदी में keywords का इस्तमाल करना थोड़ा मुश्किल है पर नामुमकिन तो नहीं है ना! 🙂  मेरे कहने का मतलब कि अगर हमारी writing skills अच्छी हो तो हम बड़ी आसानी से हिंदी पोस्ट में भी कीवर्ड्स का सही इस्तेमाल कर सकते हैं। इसलिए हिंदी लैंग्वेज में लिखे गए कंटेंट का SEO करना मुश्किल है ऐसा नहीं कह सकते।

  • Google Adsense – Language Support

अगर आप एक नए ब्लॉगर है तो आपके मन में यह सवाल जरुर आया होगा की गूगल adsense आखिर कौन-कौन सी लैंग्वेज को सपोर्ट करता है।  तो मैं आपको बता दूं की Google AdSense ने हिंदी लैंग्वेज को अपनी official supported languages मैं add कर लिया है और ऐडसेंस हिंदी लैंग्वेज को पूरी तरह सपोर्ट भी करता है वहीं दूसरी तरफ अभी हिंग्लिश लैंग्वेज का कोई भी future नहीं नजर आ रहा क्योंकि adsense अभी तो hinglish लैंग्वेज वाले ब्लॉग्स को english language समझ कर approvel दे रहा है पर भविष्य में क्या हो यह कोई बता नहीं सकता।

हो सकता है कि adsense hinglish लैंग्वेज को भी अपनी सपोर्टेड लैंग्वेज के लिस्ट में शामिल कर ले और यह भी हो सकता है कि adsense hinglish को सपोर्ट करना ही बंद कर दें और अगर ऐसा हुआ तो जितने भी हिंग्लिश ब्लॉग्स है उनका अस्तित्व समाप्त होने की कगार पर आ सकता है। इसलिए एडसेंस की नजरिए से हिंदी लैंग्वेज में कंटेंट लिखना ही उचित है।

  • Reader Intrest

यह हमारी hindi vs hinglish guide  का सबसे आखरी और सबसे महत्वपूर्ण पॉइंट है।  क्योंकि हमें किसी भी निर्णय पर जाने से पहले एक बार हमारे reader के intrest को जरुर पहचान लेना चाहिए। और मेरे खयाल से रीडर्स हिंग्लिश के मुकाबले हिंदी में लिखे गए content को पढ़ना ज्यादा पसंद करते हैं और इसीलिए हिंदी ब्लॉग का bouce rate हिंग्लिश ब्लॉग के मुकाबले बहुत ही कम रहता है जो कि किसी भी ब्लॉग के लिए बहुत अच्छी बात है।

Conclusion –

ऊपर मैंने आपके सामने वो हर एक पॉइंट रखा जिसका मैंने खुद अनुभव लिया है अब मैं यह नहीं जानता कि वह कितना गलत है और कितना सही। फिर भी मेरी आपको यही सलाह रहेगी कि अगर आप एक  newbie blogger है और अभी आपके ब्लॉग पर ज्यादा traffic नहीं है तो आप हिंदी में ही ब्लॉगिंग शुरू करें

और अगर आपका बहुत पुराना हिंग्लिश ब्लॉग है जिस पर पाकिस्तान से अच्छा traffic आता है तो आप हिंग्लिश में ही लिखना continue कीजिए क्योंकि अगर आपने ब्लॉग की भाषा बदली तो आपको अपने पाकिस्तान के सारे readers से मुकरना पड़ेगा क्योंकि पाकिस्तान के लोग अच्छी हिंदी नहीं जानते है।

तो दोस्तों, आपको मेरा hindi vs hinglish – blogging के लिए कोनसी language better है ये guide अच्छा लगा हो तो  इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरुर शेयर करें और अगर आपका कोई suggestion या कोई सवाल हो तो आप नीचे कमेंट करके हमें बता सकते हैं। धन्यवाद! 🙂

Subscribe Us Via Email

Content Delivery By Success Veda

Comments

  1. Reply

  2. Reply

    • Reply

    • Reply

      • Reply

        • Reply

  3. By Muskan

    Reply

  4. By raj

    Reply

    • Reply

  5. Reply

  6. Reply

    • Reply

  7. Reply

    • Reply

  8. Reply

    • Reply

  9. Reply

    • By Vishnu Kant Maurya

      Reply

  10. By Kabir

    Reply

    • By Vishnu Kant Maurya

      Reply

      • By Kabir

        Reply

        • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *