भारत-पाकिस्तान के बीच छिड़ा साइबर युद्ध।LulzSec India Vs Pakistan Haxors Crew

भारत-पाकिस्तान के सैनिकों के बीच बार्डर पर आये दिन लड़ाईयों की खबरें सुर्खियों में रहती हैं।

लेकिन अब यह लड़ाई जमीन के साथ-साथ ऑनलाइन जगत में भी देखने को मिल रही है।

भारत के 71वें स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पूर्व LulzSec India नामक भारतीय हैकरों के एक समूह ने पाकिस्तान गवर्मेंट (…gov.pk) की 30 वेबसाइट को हैक कर लिया।
भारत पाकिस्तान का साइबर युद्ध

वेबसाइट की लिस्ट इनके फेसबुक पेज पर देखा जा सकता है।

Lulzsec India hacked Pakistan Government Website

वेबसाइट हैक करने के बाद उनके सभी होम पेज पर-

Happy Independence Day 15 August

We LulzSec India Celebrating 70th Independence Day

Security Kissed By ROOT D3STROYER (A Mechanical Engineer)

We Salute Indian Army

इसके बाद श्रीमद्भागवत गीता का एक quotes लिखा है।

और अंत में LulzSec India का टैग लाइन है-

New Security Comes With New Vulnerability.

 

इससे पहले पाकिस्तानी हैकर समूह Pakistan Haxors Crew (PHC) ने 25 अप्रैल 2017 में भारत के कुछ प्रसिद्ध शिक्षण संस्थान जैसे दिल्ली विश्वविद्यालय, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली ( IIT Delhi) की वेबसाइट को हैक कर लिया था।

और इसके बाद दोबारा से आज 15 अगस्त को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (AMU) और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी को हैक कर लिया है।

अभी इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की ऑफिसियल वेबसाइट नही खुल रही है(Under Construction) और AMU की वेबसाइट पर पाकिस्तानी हैकर ग्रुप ने अपना पेज लगाया है।

आप नीचे स्क्रीनशॉट देख सकते हैं।

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी वेबसाइट हैक
Allahabad University Hacked By Pakistani Hacker Group
AMU Hacked By Pakistani Hacker Group
AMU Website Hacked By Pakistani Hacker Group

अगर हम पाकिस्तानी हैकिंग ग्रुप- Pakistan Haxors Crew द्वारा दिये गए संदेश पर गौर करें तो उन्होंने भारत को गाली दिया है साथ ही लिखा है कश्मीर बनेगा पाकिस्तान।

जबकि भारतीय हैकर ग्रुप LulzSec की बात करें तो उन्होंने किसी भी प्रकार अपशब्द का प्रयोग नही किया है।

इससे हम पाकिस्तानी हैकर्स मानसिकता का अंदाजा लगा सकते हैं।

आईये भारतीय हैकर ग्रुप LulzSec के बारे में कुछ बातें जान लें।

Lulzsec India – भारतीय ग्रे हैट हैकर ग्रुप

 

Lulz Security का संक्षिप्त रूप LulzSec है।Neologism के अनुसार Lulz शब्द lol (laughing out loud) से उत्पन्न हुआ है।

शायद इसीलिए इनका मोटो Laughing at your security है।

यह हैकिंग ग्रुप मई 2011 में fox.com को हैक करने के बाद लोगों की नज़र में आया।

ऐसा माना जाता है कि यह कुल 7 लोगों का ग्रुप है।इस ग्रुप का लीडर Hector Monsegur है।ग्रुप के कुछ मेंबर मैकेनिकल इंजीनियर है।

हेक्टर हैकिंग जगत में साबू नाम से प्रसिद्ध है।यह कंप्यूटर सिक्योरिटी विशेषज्ञ है।

इस ग्रुप ने एक के बाद एक बड़े-बड़े वेबसाइट को हैक किया।जिसमें बहुत ही सुरक्षित माने जाने वाली CIA की वेबसाइट और sony entertainment की वेबसाइट भी शामिल है।

इनका मकसद हैकिंग कर के बदले में पैसा कमाना नही है यह वेबसाइट में उपस्थित ख़ामियों की तरफ लोगों का ध्यान आकर्षित करते हैं।

हैकिंग में फूटप्रिंटिंग का बहुत ही अहम योगदान होता है।हम इससे पहले है फूटप्रिंटिंग क्या है और इसके कितने प्रकार होते हैं?इस पर पोस्ट लिखा है आप उसे पढ़ सकते हैं।

इन्हें हम ग्रे हैट हैकर कह सकते हैं क्योंकि यह सही कामों के साथ कुछ गलत काम भी करते हैं।

  • Pakistan Haxors Crew

पाकिस्तानी हैकर ग्रुप जिसका नाम Pakistan Haxors Crew है।अपने ग्रुप नाम के छोटे रूप PHC का ज्यादातर जगह प्रयोग करते हैं।

इस ग्रुप में वाणी,आर्यन,डैनियल,हमी ,बेंरोज़ के साथ और भी कई बंदे शामिल है।यह खुद को पक्का देशभक्त बताते हैं।

इस ग्रुप के बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नही है।अगर आपको इनके बारे में कुछ और जानकारी हो तो हमारे साथ शेयर कर सकते हैं।

निष्कर्ष

 

अगर हम LulzSec के tagline पर गौर करें-प्रत्येक नया सुरक्षा अपने साथ नया खामियां लेकर आता है।

यह बात बिल्कुल सही है क्योंकि दुनिया में कुछ भी 100 % परफेक्ट नही हो सकता।प्रत्येक चीज में कुछ ना कुछ कमी जरूर होती हैं।

अब यह बात भारत हो पाकिस्तान या फिर कोई और देश हो सभी पर लागू होती है।

अगर आप हमारे देश के वेबसाइट पर अटैक करोगे हम आपके देश के वेबसाइट पर अटैक करेंगे और फिर आप हमारे….. हम आपके…..

यह कभी खत्म नही होगा।

 

क्या भारत पाकिस्तान के बीच छिड़ा यह साइबर वॉर उचित है या अनुचित अपना राय हमारे साथ साझा कर सकते हैं.

आपको यह पोस्ट कैसा लगा हमे कमेंट कर के जरूर बतायें।

धन्यवाद।

 

Subscribe to our mailing list

* indicates required

3 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *