About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting - Income Reports

Self Improvement : Top 22 Personality Development Tips In Hindi व्यक्तित्व विकास

दोस्तों आज यहां पर जो टॉपिक टच होने वाला है वो हर एक इंसान के जीवन के लिए बहुत ही ज़रूरी होता है मतलब की हर एक इंसान के जीवन में इसकी बड़ी अहमियत होती है अगर संक्षिप्त रूप में बताना हो तो इस चीज से ही इंसान की पहचान होती है। जिसे हम personality या self improvement कह सकते है।

और आज सक्सेस वेद आपको अपना व्यक्तित्व विकास (personality and self improvement) और भी अच्छा बनाने की ऐसे कुछ रहस्यमयी तरीके बताने जा रहा है जिसे अपनाकर आप भी अपने जीवन को एक सही दिशा दे सकते है और औरों की नजरों में एक अच्छा और well disciplined person बन सकते है। तो चलिए बढ़ते है हमारे Personality Development Course की तरफ और जानते है कुछ खास personality developement skills के बारे में… जो आपको एक अच्छा व्यक्तित्व बनाने में मदद करेंगी।

self improvement

व्यक्तित्व विकास


Note – शुरू करने से पहले में आपको बता दू की ये लेख लगभग 4400 शब्दो से भी बड़ा है तो अगर आप चाहे तो इस लेख को अपने ब्राउज़र में bookmark तथा favorites में add करके रख सकते है जिससे जब भी आपको समय मिले तो आप फिर से वापस इस पेज पर आ सके। 🙂

जैसा की हम सब जानते है आज कल के बदलते समय के अनुरूप अपने व्यक्तित्व विकास मतलब personality deveopement skills पर ध्यान देना बहुत ही जरूरी बात हो गयी है क्योंकि आज कल सबकुछ उस इंसान के पर्सनालिटी पर आधारित है फिर चाहे वो जॉब प्रमोशन हो, respect हो या कुछ और… Pleasant Personality ही हमें सफलता के रास्ते पहचानने में मदद करती है।

तो चलिए अब बढ़ते है हमारी self improvement की टिप्स की तरफ जिन्हें अगर आप सही से अपनी जिंदगी के डेली behaviour में इम्प्लीमेंट करते है तो आपके भी बहुत सारे चहेते बन सकते है जो की हर किसी को अच्छा लगता है। पर उससे पहले पर्सनालिटी क्या है? ये तो जान ले!

दोस्तों personality का मतलब ये नही की आप दिखने में अच्छे हो, आपका लुक अच्छा है, आप बात अच्छी करते है। ये सब personality developement skills से बिलकुल अलग और परे है बल्कि आपका अंदाज, बैठने उठने का तरीका, आपका communication skill, दुसरो के प्रति अच्छा व्यवहार, हाव-भाव, रोज की गतिविधियां इन सब बातों को ध्यान में रखकर जो बनता है उसे हम पर्सनालिटी कहते है और इस पर्सनालिटी को अच्छा बनाना ही “self improvement” कहलाता है।

Self Improvement : Top Personality Developement Skills In Hindi

यहा आज हम आपको अपनी पर्सनालिटी अच्छी बनाने (self Improvement) की ऐसी कुछ secret टिप्स बताने जा रहे है जो आपको कुछ personality development course को जॉइन करने पर दी जाती है पर आपको ऐसा कोई भी कोर्स या इंस्टिट्यूट जॉइन करने की कोई जरूरत नहीं है क्यू की सक्सेस वेद पर हम भी आपको वही सीक्रेट टिप्स बताने जा रहे है जो आपको किसी भी कोर्स में सिखाई जायेगी… बस अब ये आप पर निर्भर करता है कि आप इन तरीकों को कितने हद तक फॉलो करते हो और अपने self improvement की तरफ ध्यान देते हो।

  • आत्मपरीक्षण एवं निरीक्षण

जब आपको अपनी personality अच्छी बनानी हो तो सबसे पहले बात आती है खुद को जानने की। क्यू की आपको पर्सनालिटी में सुधार करना है मतलब खुद को अच्छा बनाना है। इसीलिए अगर आपको अपनी पर्सनालिटी अच्छी बनानी है तो सबसे पहले खुद को जाने। अपने अंदर की गहराई में जरा झांककर देखे की आप अभी क्या हो और आपको क्या बनना है। अपनी ताकत और कमजोरियों को पहचानिये और फिर decide कीजिये की आपको खुद में क्या बदलाव करने है। ये self improvement की तरफ पहला कदम है।

और मेरा तो ये personal मानना है कि कुछ भी करने से पहले हजार बार सोचिये पर एक बार ठान लेने के बाद हजार बार उसे पूरा करने की कोशिश करे और तब तक कोशिश करिये जब तक आप उसमे सफलता हासिल नही कर लेते।

इसीलिए आपको अपने अंदर क्या – क्या “self improvement” करनी है ये पहले ठीक से सोच ले और उसके बाद ही एक एक बात को अपने अंदर उतारने की कोशिश करे। मेरी आपको ये राय रहेगी की आप किसी डायरी में लिख ले की आपको खुद में क्या क्या बदलाव लाने है और फिर उसे हर रोज पढ़े और अपने अंदर implement करने की कोशिश करे। डायरी लिखने के फायदे इस पोस्ट को पढ़कर आप जान सकते है कि ये हमें कैसे self improvement में मदद करती है।

  • अपने विचारों और निर्णयों पर बने रहे

जब आप कभी किसी के सामने अपना कोई विचार रखते हो तो बोलने से पहले सौ बार सोचे की क्या आप जो बोल है वो सही है? और अगर आपको वो सही लगा तो बोल दीजिये पर एक बार कोई भी बात बोलने के बाद या अपना विचार रखने के बाद अपने विचार पर हमेशा पक्का रहे। और यही बात अपने निर्णय लेते समय भी फॉलो करे क्योंकि एक अच्छी व्यक्तिरेखा बनाने के लिए आपको अपने बात पर अमल करना बहुत जरूरी होता है। और अगर आप ऐसा नहीं करते तो आप कही न कही self improvement के लॉजिक को नही समझ पाये है और कभी भी किसी का विश्वास और मन नहीं जीत पाएंगे। क्योंकि लोग उसी इंसान को सबसे ज्यादा पसंद करते है और भरोसा करते है जो हमेशा अपनी कही हुई बात पर अटल रहे फिर चाहे वो बात छोटी सी छोटी ही क्यू न हो।

  • सहनशीलता की परिभाषा को समझे और गुस्से पर नियंत्रण रखें

Self improvement के लिए और अपना एक सफल और अच्छा व्यक्तित्व बनाने के लिए आपका शांत रहना बहुत मददगार साबित होता है। सामनेवाला चाहे जितना गुस्सा करे या चिल्लाये, हमें उसे नजर अंदाज करना चाहिए और अपनी शांति को बनाये रखते हुए अपने गुस्से पर काबू रखना चाहिए। इससे हमारी सहनशीलता का परिचय होता है जो की एक good personality का लक्षण है।

हमें किसी की भी बात का बुरा मानकर उसे अपने दिल में या मन में नहीं रखना चाहिए क्यू की वो बेवजह ही हमारे दिल में अपनी जगह रख लेता है। इसीलिए बुरे विचारों को अपने दिल से उसी वक़्त निकाल फेककर अच्छे विचारों के लिए जगह बनाना बहुत जरूरी है।

  • झूठ का सहारा कभी ना ले

पहली बात ये कि हमसे कोई गलती न हो इसका पूरा ध्यान रखना चाहिए पर अगर हमसे कोई गलती हो भी जाये तो भी हमें तुरंत सब कुछ सच बताकर माफ़ी मांग लेनी चाहिए क्यू की आखिर गलतियों से सीखना ही इंसान का स्वभाव है। हमें एक झूठ को छुपाने के लिए हजार झूठ बोलने पड़ते है और एक न एक दिन हम पकड़े जाते है और जब पकड़े जाते है तब हमारी क्या इज्जत रह जाती है ये अलग से बताने की जरूरत नहीं है। अगर आपको दिल से self improvement करनी है तो हमेशा सच बोलना बहुत ही जरूरी है।

मेरा तो यही मानना है कि हमें अपनी गलतियां छुपाने के लिए झूठ का सहारा कभी नहीं लेना चाहिए। क्यू की झूठ बोलकर अमृत पीने से अच्छा है सच बोलकर जहर खाना। क्यू की सच बोलकर दाल भात खाने में जो मजा है वो झूठ बोलकर बिरयानी खाने में भी नही। और जरा आप ही सोचिये, अगर कोई इंसान झूठ बोलता है और पकड़ा जाता है तो उसके बाद कोई उससे ठीक से पेश आता है? कोई उसे इज्जत देता है? नही ना! इसलिए हमेशा सच की राह पर चले.. ये भी अपने आप में एक बहुत बड़ी self improvement है।

  • हमेशा फ्रेश और रिफ्रेशिंग मूड में रहे

ये एक बहुत ही आसान और effective personality developement skills में से एक है जो आपको एक अच्छी पहचान बनाने में मदद करता है। हमें हमेशा अपने चेहरे पर smile रखनी चाहिए, हमेशा स्माइल से मेरा मतलब ताजा और खिलखिलाते चहरे से है 😉 और हँसते चहरे के साथ हमें अपना mood fresh रखना चाहिए और इसके साथ साथ हमसे जो भी मिले उसका मूड भी रिफ्रेश करना हमें आना चाहिए। मतलब हमें अपने रोज के lifestyle में खुश रहने का राज क्या है ये जानना होगा और उसे अपने जीवन में apply करना होगा। यही एक good personality person की सबसे बड़ी strength होती है।

  • माहौल के अनुसार कपड़े पहने

ये भी एक बहुत ही आसान और common तरीका है self improvement करके अपनी personality develop करने का जिसे बहुत से लोग नजर अंदाज कर देते है पर ये बिलकुल गलत बात है क्यू की इन्ही छोटी छोटी बातों को ध्यान में रखकर इन्सान के personality की असली पहचान होती है इसीलिए हमें अपने कपड़ों पर मेरा मतलब अपनी dressing sense पर भी ध्यान देना चाहिए।

अपने आसपास का माहौल जैसा हो हमें उससे सूट हो ऐसे ही कपड़े पहनने चाहिए।

For example : अगर हम किसी beach के किनारे office suit पहनकर गए तो हमारी personality कितनी develop है ये सब लोग अच्छी तरह से समझ जाएंगे। 😉 ये बाते दिखने में भले ही छोटी लगती है पर इनका हमारी personality (व्यक्तित्व) पर बहुत बड़ा असर पड़ता है। इसीलिए हमें इन छोटी छोटी बातों का भी ध्यान रखना चाहिए।

  • हमेशा बेवज़ह माफ़ी मांगने की आदत को बदलें

मैंने बहुत से ऐसे लोग देखे है जो बिना किसी गलती के बेवजह माफ़ी मांगते रहते है। और कुछ लोग ऐसे भी होते है जो खुद सही होकर भी या उनका बॉस गलत होकर भी उनके हां में हां मिलाते जाते है ताकि उनका प्रोमोशन हो सके और उनकी सैलेरी बढ़ सकें। ये कोई self improvement का तरीका नही है। मेरे खयाल से ऐसे बेवजह माफ़ी मांगने से अच्छा है कि वो नौकरी ही ना करे क्यू की जिंदगी में स्वाभिमान नाम की भी कोई चीज होती है जिसका कोई मोल नही।

अगर आप भी इन लोगो में से है तो आपको भी अपनी self improvement पर ध्यान देते वक़्त ये बात याद रखनी चाहिए की कोई भी बेवजह आपका अपमान तब तक नही कर सकता जब तक हम उसे वो अधिकार ना दे दे। और अगर आप खुद ये जानते हुए भी की आप निर्दोष है, खुद की बेइज्जती सह रहे हो तो ये आपकी personality को develop करने की जगह और बुरा बना रहा है ये बात जान ले।

क्यू की गांधीजी ने भी बस, “कोई एक गाल पर मारे तो दूसरा गाल आगे करो” इतना ही कहा था पर अगर कोई दूसरे गाल पर भी मारे तो क्या करना है ये गांधीजी ने नहीं बताया था। मेरे खयाल से शायद आप समझ गए होंगे में क्या कहना चाहता हूं। और ये असली तरीका है self improvement का।

  • हमेशा खुश रहे और खुश करे

आप मानो ना मानो पर मेरा ये मानना है कि जब आप पर कोई संकट या परेशानी मंडरा रही होती है और ऐसे हालात में जब आप अपनी परेशानी पर हंसते हो तो परेशानी खुद परेशान हो जाता है की यार ये मैं कहा आ गया, और खुद ब खुद चला जाता है। इसीलिए life में जब भी आप पर कोई परेशानी आये तो उसपर रोने की जगह हँसिये और फिर देखिये जादू.. 🙂

success की तरफ बढ़ने वाले हर व्यक्ति के जीवन में बहुत से जलने वाले लोग भी होते है जो नही चाहते की हमारा भला हो और ऐसे लोग हमें संकट में डालने की कोशिश करते रहते है पर जब हम हंसते है तो इससे बड़ी सजा उनके लिए कोई नही होती। और हा, जब भी लोग आपके बारे में उल्टा सीधा कहने लगे तभी समझ जाइये की आप सही जा रहे हो। और आपकी self improvement के लिए की गयी कोशिश रंग ला रही है। हम सही जा रहे है या गलत ये जानने का ये एक अच्छा संकेत है।

इसलिये हमेशा खुश रहे और मुस्कराहट के साथ दूसरों से मिलिए और दूसरों को जितना हो सके उतना खुश करे क्यू की यही असली मायने में self improvement कहलायेगी। नहीं तो आप चाहे personality developement in hindi के जितने लेख पढ़ो कोई फायदा नहीं होगा जब तक आप उसे अपनाते नहीं।

  • हमेशा सकारात्मक सोच (Positive Thinking) रखे

दोस्तों एक बात आप जान लीजिए की पूरी दुनिया में कोई काम ऐसा नहीं है जो आप नहीं कर सकते, क्योंकि केरोली टेक्सस जिसने सालो से अपने राईट हैंड से शूटिंग की प्रैक्टिस की थी और जब उसका राईट हैंड ही एक एक्सीडेंट में चला गया था और औरो को लगता था कि अब ये कुछ नहीं कर सकता पर उसने अपने लेफ्ट हैंड से लगातार दो बार शूटिंग के ओलंपिक्स में स्वर्ण पदक जीते और पूरे इतिहास को बदल कर रख दिया क्यू की उसके पहले किसीने लगातार दो बार ओलंपिक्स में स्वर्ण पदक नही जीता था। और जो काम लोगो को नामुमकिन लगता था वो काम Karoly Takacs ने कर दिखाया था और जो काम लोगो को नामुमकिन लगता है वही करके दिखाने में ही तो असली मजा है। यही है असली self improvement

इसीलिए हमेशा possitive thinking बनाये रखे और अपना 100% दे। ये भी एक personality developement skills है। जिसे यूज़ करके हम self improvement कर सकते है।

  • प्रशंसा करने में हिचकिचाहट महसूस ना करे

जब भी आपको लगे की किसीने सही काम किया है या वो तारीफ के लायक है तो उसकी प्रशंसा करने में शर्म महसूस न करे की अगर मैंने इसकी तारीफ की तो शायद ये मुझसे ज्यादा famous हो जायेगा और बाकी लोग मुझे कम respect देंगे पर एक बात जान लीजिए की आप जितना दुसरो की तारीफ करेंगे उतना ही औरो के दिल में आपके लिए जगह और आपका स्थान और ऊँचा होता चला जाता है। इसीलिए जब भी आपको मौका मिले, तारीफ करते रहे पर इसका ये मतलब नहीं की आप हर किसी की तारीफ करते फिरो, बल्कि उसकी ही प्रशंसा करो जो उसके योग्य है। आपने “give respect and take respect” ये बात तो जरूर सुनी होगी। तो अब इसे अपनाइये और self improvement की लिस्ट में शामिल कर लीजिए।

  • अपना अभिप्राय रखे

अगर आपसे कोई सवाल पूछा जाए या किसी ग्रुप में चर्चा हो रही हो, जिसमे आप भी शामिल हो तो बेझिझक आपका जो भी अभिप्राय या विचार है वो बोल दे। क्यू की ये activeness एक good personality की निशानी होती है जो ये साबित करती है कि आप एक good personality वाले इंसान हो और लोग आपके नजदीक आने लगते है और उनका आपपर विश्वास बढ़ने लगता है जो की self improvement के लिए किये गए मेहनत और कोशिश का नतीजा होता है।

  • कम बोलना और ज्यादा ध्यान से सुनने की आदत डालिये

जब हम किसी के साथ होते है तो अक्सर ज्यादा बकबक करते रहते है। in fact, ये मेरी भी बहुत बड़ी और बुरी आदत थी जिसपर में अब जाकर काबू कर पाया हूं। पहले में बहुत बोलता था जिसपर अक्सर सामने वाला बोर हो जाता है जो की हमारी personality और हमारे impression को ख़राब करती है। अगर आपको भी ज्यादा बोलने की आदत है जैसे मुझे थी, तो इसपर एक ही उपाय है कि आप खुद को जितना हो सके उतना काम से related हर कम बोलने पर force करे। और सामने वाले को बोलने का मौका दे, ये थोड़ा मुश्किल है पर यकीन मानिए self improvement का ये तरीका काम करता है।

  • सामने वाले के पसंदीदा विषय पर चर्चा करे

असल में हमें लगता है कि हम बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर बात कर रहे है पर हर बार ऐसा नहीं होता, हो सकता है जिस विषय पर हम बात कर रहे हो वो सिर्फ हमारे लिए ही महत्वपूर्ण हो और सामने वाले व्यक्ति के लिए सिर्फ भाषण सुनने के बराबर हो। इसलिए पहले अपने सामने वाले के intrest को जानिये और उसी टॉपिक पर उससे बाते करे जिससे उसपर आपका अच्छा impression जमे और ये self improvement या personality developement का एक सबसे बेसिक तरीका है जिसे हमें जरूर फॉलो करना चाहिए।

अब आपके मन में एक सवाल होगा की हम जो बोल रहे है वो सामने वाले को दिलचस्प लग रहा है या नहीं ये कैसे पता करे? तो इसके लिए आप कुछ body signs और body language को observe करके ये आसानी से catch कर सकते हो की आप जिस टॉपिक पर बात कर रहे हो वो सामने वाले को पसंद है या नहीं। उन में से ही कुछ self improvement में आपको नीचे बता रहा हु।

1. जब आप बात कर रहे हो तो देखे की सामने वाला व्यक्ति आपकी तरफ देख रहा है या नहीं अगर वो कही और देख रहा है तो समझ जाइये उसे आपकी बातों में कोई दिलचस्पी नहीं है।

2. ये देखे की वो आपकी आंखो में देख कर आपको सुन रहा है या नहीं। अगर ऐसा नहीं है तो टॉपिक change करना ही बेहतर होगा।

3. अगर सामने वाले को आपकी बातों में intrest है तो उसकी आंखो की पुतलियां अपने आप थोड़ी बड़ी होने लगती है। ये भी एक अच्छा संकेत है किसी के इंटरेस्ट को परखने का, पर बेशक अगर आप किसी ऐसे रूम में हो जहा ज्यादा प्रकाश नहीं आता तो इसके कारण भी पुतलियां बड़ी हो जाती है।

  • एक अच्छे श्रोता (listener) बने

सिर्फ एक अच्छा वक्ता होना ही self improvement और अच्छी पर्सनालिटी बनाने के लिए काफी नहीं है बल्कि अगर आपको सच में अपनी personality develop करनी है तो आपको एक अच्छा श्रोता भी बनना पड़ेगा। एक अच्छा श्रोता वो होता है जो अपने सामने वाले की बात को पूरे ध्यान से समझे और उसको feedback दे। आपमें एक अच्छा श्रोता बनने के लिए नीचे दी गयी कुछ बातों का ध्यान रखते हुए self improvement करनी होगी तभी आप एक pleasant personality पा सकते है।

1. सामने वाला जब बात कर रहा हो तब उसकी आंखो में देखना चाहिए।

2. उसकी बात को ध्यान से समझना चाहिए

3. हमें समझ आ गया ये बताने के लिए सिर हिलाना, हम्म, हाँ, जी ऐसे जवाब या facial expressions देना।

  • नए लोगो से मिले और दोस्ती करे

ये भी self improvement का एक सबसे अच्छा तरीका है जिससे आप सिर्फ अपना व्यक्तित्व ही अच्छा नही बनाते बल्कि इससे आपको नए दोस्त भी मिल जाते है। अक्सर हम अपने पेशे के लोगो के साथ दोस्ती करते है जिनसे हमें ज्यादा कुछ सीखने को नही मिलता पर अगर हम अपने पेशे से अलग लोगो से दोस्ती करते है तो हमें कुछ नया सीखने को मिलता है और हमारा friend circle भी extend हो जाता है। इसलिए हमें अपने पेशे से अलग दोस्त भी बनाने चाहिए।

For Example – अगर आप एक वकील है तो आपको बाकी वकीलों से कुछ ज्यादा सिखने को नही मिलेगा। पर वही अगर आप किसी इंजीनिअर, डाक्टर जैसे अलग पेशे वाले लोगो से दोस्ती करते है तो आपको बहुत कुछ नया सीखने को मिल सकता है और आपको self improvement के साथ साथ नए नए दोस्त भी मिल जायेंगे

  • निःस्वार्थ भाव से मदद करे

अगर आपको self improvement के लिए सबसे पहले कुछ करना चाहिए तो वो है जरूरतमंद लोगो की निःस्वार्थ भाव से मदद करना। क्यू की जब हम किसी की निःस्वार्थ भाव से मदद करते है तो कभी न कभी किसी ना किसी रूप में वो शख्स हमारे काम जरूर आता है।

और जब हम लोगो की दिल से मदद करते है तो हमें उनकी दुआएं तो मिलती ही है पर उसके साथ साथ हम एक अच्छे personality वाले इंसान के रूप में भी जाने जाते है। इसीलिए self improvement में किसी की मदद करना बहुत ही अच्छा है क्यू की इससे हम सिर्फ अपना व्यक्तिमत्त्व ही अच्छा प्रतीत नहीं करते बल्कि किसी की सहायता भी करते है जो की एक अच्छी personality की सही पहचान है।

So, मेरी आप सब readers से request है कि जहा भी आपको कोई जरूरतमंद इंसान मिले जिसको आपकी मदद की जरूरत हो तो प्लीज, ignore ना करके जितना हो सके उतना उसकी help करने की कोशिश करे। क्यू की हो सकता है  अगली बार आपको उसकी मदद की जरूरत पड़ जाए।

  • हँसना जरूरी है | Be Happy

जैसे की मेने ऊपर एक टॉपिक में भी बताया है कि जब हम हसते है तो हमारा बुरा चाहने वालो के लिए उससे बड़ी सजा कोई और हो ही नहीं सकती। इसीलिए हमेशा खुश और प्रसन्न रहे क्यू की मुस्कराहट एक ऐसी अनमोल चीज है जो भगवान ने सिर्फ इंसान को ही दी है।

इस दुनिया में दुखी लोगो के लिए कोई जगह नहीं है। क्यू की आज हर कोई सिर्फ अपना दुख ही दुसरो से share कर रहा है और सुख का अनुभव अकेले ही लेना चाहता है। पर अगर आपको self improvement या अपनी personality में developement करनी हो तो अपना सुख और दुःख दोनों लोगो के साथ शेयर करना सीखें और हमेशा ख़ुश रहे।

जब भी आप दुखी होंगे तब बस इतना ही सोचिये की क्या मेरा दुःख इस दुनिया में सबसे बड़ा है? और आपको जवाब मिलेगा की नहीं, मुझसे भी ज्यादा बड़े बड़े दुःख है लोगो के.. तो बस, वही अपने दुःख को भूल जाइए और जो हो गया है उसके बारे में नहीं बल्कि जो करना है उसके बारे में सोचिये। यही सब अपने आप में self improvement skills है।

  • Feelings की क़द्र करे

अपनी personality develop करने के लिए ये बहुत ही जरूरी चीज है जिसपर आपको सबसे ज्यादा ध्यान देना चाहिए। क्यू की कोई भी इंसान ऐसे व्यक्ति को कभी एक good personality वाले शख्स की नजरिये से नहीं देखेगा जो उसकी feelings की क़द्र न करता हो। इसीलिए अगर आपको एक अच्छा व्यक्तित्व बनना है तो कभी भी किसी की भावनाओं के साथ खिलवाड़ ना करें। और अगर आप उसकी भावनाओ को ठेच पहुचाते हो तो हो सकता है किसी दिन वो भी आपका ये कर्ज, ब्याज के साथ वापस कर दे।

इसीलिए कभी भी किसी की feelings को heart ना करे। और अगर आपने किसी को दुखी कर दिया ऐसा आपको लग रहा हो तो तुरंत जाकर उस व्यक्ति से माफ़ी मांग लीजिये। क्यू की माफ़ी मांगना शर्म का नहीं, जिगर का काम होता है, माफ़ी मांगने के लिए भी बड़ी हिंमत की जरूरत पड़ती है। और यकीं मानिये, माफ़ी मांगने से सामने वे के दिल में आपका दर्जा और बढ़ जाता है।

  • अपनी body language पर काम करे

अपनी पर्सनालिटी डेवेलोप करने के लिए हमें अपनी body language मतलब शारीरिक संकेतो पर काम करके उनको एक नया अंदाज देना होता है। इसीलिए, self improvement की सूचि में अपने body language को अच्छा और आकर्षक बनाने के लिए भी समय निकाल ले। क्यू की जब हम किसी इंसान से मिलते है तो उसकी नजर में सबसे पहले हमारे body language पर ही पड़ती है। और आप तो जानते ही है – first impression is last impression.

  • ज्यादा गंभीरता भी अच्छी नहीं होती

माना कि हमें अपने जीवन में अपने काम को लेकर serious रहना चाहिए पर एक पेशंट के लिए कोई भी दवाई बस तब तक मददगार साबित होती है जब तक उसे limit में लिया जाये। अगर हम बीमारी दूर करने के लिए 24/7 सिर्फ दवाई ही लेते रहे तो हमें दावा की नहीं, दुवा की जरूरत होगी 😉 कहने का मतलब की जब तक हम अपना काम कर रहे है तब तक गंभीरता अच्छी है पर अगर हम हमेशा गंभीर ही रहे तो ये हमारे लिए हानिकारक भी हो सकता है। और भला कोई हमेशा गंभीर रहने वाले व्यक्ति को क्यों पसंद करेगा, इसलिए अपने life में थोड़ा हँसी मजाक करना भी जरूरी होता है। इससे हमारी पर्सनालिटी भी अच्छी बनती है।

  • बोलने का अंदाज

हम चाहे जो भी बोले, वो मायने नहीं रखता पर हम जो बोलते है वो किस तरीके से बोलते है ये मायने रखता है। मतलब चाहे हमारी बात कितनी भी बकवास क्यू ना हो अगर हम उसे एक सटीक सटीक अंदाज में बोले तो सामने वाले को तुरंत वो बात intresting लगने लगती है। और वो हमारी बात पर दिल से विचार करना शुरू कर देता है। वही दूसरी तरफ हम कितनी भी अच्छी या महत्वपूर्ण बात अगर सही तरीके से ना बता संके तो सामने वाला हमारी बात को importance नहीं देता और आगे से हमसे मिलना टालता रहता है। नीचे में आपको सही ढंग से बात करने के कुछ तरीके बता रहा हु जो में खुद फॉलो करता हु, शायद ये आपके भी काम आ जाए।

1. Eye Contact – जब भी किसी से हम बात कर रहे होते है तो हमें सामने वाले की आँखों में देखकर बोलना चाहिए।

2. Feedback – हम जो कुछ कह रहे है उसमें उसका भी प्रतिसाद ले और उससे पूछे की ये सही है या नहीं। इससे सामने वाले को ये एहसास होता है कि हम उसे भी importance दे राहर है और वो हमारी बात को और seriously सुनता है और उसपर विचार विनिमय करता है।

3. hand movements – जब हम सामने वाले से बात कर रहे होते है तब सिर्फ हमारी जुबान ही नहीं बल्कि हाथ भी बहुत मायने रखते है। हम अपने हाथों से इशारे करके सामने वाले व्यक्ति को वो चीज समझा सकते है जो की सिर्फ बोलने से समझाना नामुमकिन होता है। इसिलए, proper hand signs का इस्तमाल करना बहुत ही effective तरीका है हमारी self improvement या personality develop करने का।

4. Sentence Gap (silence) – मेरी नजर में बात करते वक़्त सिर्फ बोलते ही रहना एक मूर्खता के समान है। हमें बात करते समय बीच बीच में थोड़ा शांत भी रहना चाहिए। क्यू की silence कभी कभी वो बोल देता है जो हम शब्दो से नहीं बोल पाते। और इससे हमारे वाक्यो की गंभीरता और importance और भी बढ़ जाती है।

  • विनम्र और सभ्य रहे

Self improvement और personality developement course में आपकों यही सिखाया जाता है कि हमें अगर अपना व्यक्तित्व अच्छा बनाना हो तो सबसे विनम्रता से पेश आओ। क्यू की हर कोई उसे ही एक अच्छे व्यक्तित्व का प्रतिक मानेगा जो सबके साथ विनम्र और सभ्यता से व्यवहार करता हो। इसीलिए, सबके साथ शालीनता से पेश आये।

What’s Next? – Self improvement tips जानने के बाद क्या?

दोस्तों अब आपने personality developement tips in hindi ये लेख तो पढ़ लिया पर अब इसके आगे क्या? अब समय है सचमुच self improvement का, मतलब इन टिप्स को फॉलो करके सचमे एक अच्छा व्यक्तित्व हासिल करने का।

मेरा काम था आपको ये टिप्स बताना.. अब मेरा काम खत्म, और आपका काम शुरू.. मेने तो आपको ये टिप्स बताकर मेरा काम यहाँ पूरा कर लिया पर यहाँ से आपका काम शुरू हो गया है। तो चलिए, आज और अभी से अपने व्यक्तिमत्त्व विकास की तरफ ध्यान देना शुरू कर दीजिए.. क्योंकि इंटरनेट पर आप personality developement in hindi ये सर्च करोगे तो आपको हजारो ऐसी टिप्स मिल जाएंगी। पर आपको ये सब पढ़ कर तब तक कोई फायदा नहीं होने वाला जब तक आप उन टिप्स को अपने जीवन में implement नहीं करेंगे।

और जैसे जैसे आप इन self improvement के तरीकों को अपने daily lifestyle में implement करते जायेंगे वैसे वैसे आपको खुद ब खुद इनका असर नजर आने लगेगा। तो आगे बढिए, बढ़ते हीे रहिए.. क्यू की बढ़ती का नाम ही तो जिंदगी है… 🙂

तो दोस्तों, अगर आपको मेरी ये व्यक्तित्व विकास (self improvement) करने की टिप्स (personality deveopement skills in hindi) अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे। और सबका विकास करने के हमारी योजना में हमारा साथ दे। 🙂

Subscribe Us Via Email

Content Delivery By Success Veda

Comments

  1. Reply

    • Reply

  2. By Sivam

    Reply

    • Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *