About us - Privacy Policy - Disclaimer - Contact us - Guest Posting - Income Reports

Set Goals : जीवन में goal setting कैसे करें और लक्ष्य चुनना क्यू जरूरी है ?

आज कल इस भागते और तेज जीवन की दौड़ में success होने के लिए हर कोई भाग रहा है। और अगर हमें भी इस जीवन की दौड़ में टिके रहना हो तो हमें अपने जीवन में थोड़ा सा  समय निकालकर goal setting भी करनी होगी। और आज इस लेख में हम आपको how to set goals in life के बारे के जानकारी देने जा रहे है। ताकि आपको अपना लक्ष्य चुनने मेें आसानी हो।

Set goals hindi guide

Set up a Goal in hindi

आज इस लेख में आप goal setting theory को जानकर ये समझ जाएंगे की set goals ये सिर्फ दो शब्द ही नहीं बल्कि पूरी जिंदगी के आधार स्तंभ भी है। तो चलिए जानते है how to set goals in life के बारे में। पर उससे पहले आखिर set goals process के क्या फायदे है और ये क्यू जरूरी है इसके बारे में तो जान ले। क्यू की अगर हमें लक्ष्य क्या है और life में एक उचित लक्ष्य की क्या अहमियत है यही पता नहीं होगा तो हम goal setting को ज्यादा महत्व नहीं देंगें तो चलिए जानते है – importance of set goals in life i.e. why we have to set goals in life.

Goal Setting क्यों करे? लक्ष्य चुनना (Set Goals) क्यू जरूरी है।

दोस्तों मैने ऐसे कही लोगो को देखा है जिनके जीवन में अपना खुद का कोई लक्ष्य (goal) ही नहीं हैं। और वो बिना कोई लक्ष्य सुनिश्चित (set goals) किए ही इस life की रेस में दौड़ लगा रहे है। ये बिना जाने की उन्हें आखिर जाना कहा है।

सिर्फ imagine करो की आपको किसी शहर जाना है और आपको उस शहर का पता ही नहीं मालूम और आपसे कहा जाये की सबसे पहले तुम्हे उस शहर तक पहुचना है या आपने भी संकल्प कर लिया की मुझे उस शहर तक जाना है और आप दौड़ने लगे पर आपको रास्ता तो मालूम ही नहीं… तो क्या आप अपनी मंजिल तक पहुच पाएंगे? नहीं ना।

इसलिए अगर आप सोचते हो की goal setting करने में समय बर्बाद करने से अच्छा है कि कुछ काम किया जाये और सबसे तेज दौड़ा जाये तो आप जाने अंजाने में जिंदगी के रास्तो में से failure का रास्ता चुन रहे हो। क्यू की ये बात साफ़ है की set goals theory के बगैर हम आगे बढ़ ही नहीं सकते। क्यू की goal setting करना ही हमारी मंजिल चुनना है। और अगर हमारी मंजिल ही हमें पता नहीं है तो हम उसे हासिल कैसे कर सकते है?

इसलिए set goals इन दो शब्दो को सिर्फ शब्द समझने की गलती कभी मत करना। और मेरे खयाल से अब आपको set goals की concept क्या है और लक्ष्य चुनना क्यू जरूरी है ये समझ आ गया हो। goal set करना एक तरह से self improvement का ही हिस्सा है। तो अब बढ़ते है हमारे मुख्य विषय की तरफ मतलब how to set goals की तरफ।

Goal Setting कैसे करे? | How To Set Goals In Life

अगर यहाँ पर मैं आपको जीवन में लक्ष्य कैसे केंद्रित करे या लक्ष्य बनाना क्यू जरूरी है इसके बारे में पूरा बताने गया तो मुझे ये पोस्ट लिखने के लिए दो दिन भी कम पड जाएंगे। इसलिए मैं बस कुछ महत्वपूर्ण (मुद्दे) बातें आपसे शेयर कर रहा हूँ। वो कुछ नीचे की तरह है।

How to Set Goals In Life Guide In Hindi

  1. Think about what I want to make my self
  2. Write about yourself
  3. Know your interest
  4. Forecast your future
  5. Set your main goal
  6. Test/check you ability
  7. Do some research
  8. Take advice

अब हम किन किन मुद्दों पर चर्चा करने वाले है ये तो आपने जान लिया। तो चलिए अब जरा इन points के गहराई में चलकर बात करते है।

  • मैं खुद को कहा देखना चाहता हूँ?

ये सवाल दिखने में बड़ा सीधा है पर जब आप खुद से ये सवाल करते हो तो जवाब मिलना बहुत मुश्किल हो जाता है और आप खुद को excuses देते चले जाते है। पर थोड़ी देर के लिए सारे विचार दिमाग से निकाल दे और किसी शांत जगह पर बैठकर अपने दिल से एक सवाल करे की मैं अपने आप से क्या चाहता हु।

देखिये ये सवाल छोटा है पर इसका असर बहुत बड़ा है। बस ये छोटासा सवाल आपके दिल और दिमाग दोनों की लड़ाई करवा के उनमे खलबली मचा सकता है। इसलिए पूरी तरह अपने दिल और दिमाग पर काबू करके और अपने मन को खाली रखकर अपने आप से ये सवाल पूछे। और हाँ! सबसे important बात की goal setting करते वक़्त और अपने मन से सवाल करते वक़्त आपके मन में मैं खुद को ऐसा बनाना चाहूंगा तो लोग क्या कहेंगे? घरवाले मुझे ऐसा करने देंगे या नहीं? कही मैं गलत साबित हुआ तो? इस तरह के बेहूदा सवालो को बिल्कुल जगह मत दीजिए।

उस पल बस ऐसा सोचिये की आप खुद के मर्जी के मालिक हो और आपके पास अभी बस आपका दिल और दिमाग मौजूद है। बाकि सब की फ़िक्र करना छोड़ दीजिए और इस process में पुरी तरह से involve हो जाइए क्यू की ये आपकी जिंदगी का फैसला है।

और खुद को 1 दिन, 5 दिन, 10 दिन जितना चाहिए समय दीजिये और ये deside कीजिये की आपको खुद से क्या चाहिए या आप खुद को क्या देखना पसंद करेंगे। जब आपको इसका जवाब मिल जाये तो ही आगे बढिए और दूसरा स्टेप फॉलो करे।

  • खुद के बारे में लिखें

Goal setting में ये दूसरा step है। जब आप पूरी तरह सोच लो की आपको खुद को क्या बनाना है और आपको उसका जवाब confusing लगे या बहुत से जवाब मिल रहे हो और आप उसमे से आपका main goal कौनसा है ये choose नहीं कर पा रहे हो तो खुद के बारे में लिखना भी इस दुविधा के लिए एक बेहतर उपाय है। जिसकी मदद से आप और आसानी से जान सकते है कि आपको आखिर क्या चाहिए। या आपको क्या बनना है।

इसलिए हो सके तो किसी डायरी में अपने बारे में लिखें की आपको क्या पसंद है, आपकी Hobbies क्या है, आपको बचपन से किस चीज से लगाव है? इस तरह की छोटी छोटी बातों को भी लिख दे।

लिखने के बाद फिरसे उसे पढ़े और उसको पढ़ने के बाद आप ये जानेंगे की आपका असली goal क्या है। या आप किस चीज में दिलचस्पी रखते हो।

  • अपने intrest को पहचानिए।

Goal setting में ये स्टेप भी बहुत मायने रखता है। ये बाद याद रखिए की जिस चीज में आपका intrest ना हो उस में आप कभी success नहीं पा सकते और सफलता हासिल कर भी ली तो भी अपनी सफलता को लेकर कभी खुश और संतुष्ट नहीं रह पाएंगे। और तब ये सोचेंगे कि काश उस वक़्त मैंने अपनी पसंद का काम किया होता। इसलिए अपने intrest को भी set goals in life इस विचार धारणा में उतना ही महत्वपूर्ण स्थान दीजिये जितना की बाकी points को। और अपने intrest के काम को चुनकर goal setting की अगली स्टेप की ओर बढिए।
क्यों करना चाहते है?

Goal setting में ये स्टेप बहुत अहमियत रखता है। जब आपके मन में कोई एक या दो विचार आ रहे हो की मैं ये करना चाहता हु। चलिये हम मान लेते है कि आपके मन में दो रास्ते आ रहे है जो दोनों ही आपके पसंदीदा है और आप वो दोनों ही करना चाहते हो। और suppose, उसमे से पहला रास्ता है A और दूसरा है B.

तो अब खुद से पूछिए की मुझे इन दोनों में से क्या करना है। और ऐसा समझ लीजिए की आपको A वाला रास्ता better लग रहा है तो अब ये सवाल कीजिये की में A वाले रास्ते पर ही क्यू चलना चाहता हूँ। और अगर ये नहीं करना चाहता तो B वाला क्यू करना चाहता हूं। और आपको जिसकी वजह ज्यादा strong या सही लगती हो उसको choose करके set goals के अगले स्टेप पर चले जाईये।

  • अपने भविष्य के बारे में सोचिए।

अब आपने जो रास्ता goal setting के ऊपर वाली स्टेप में चुना वो सही है या नहीं इसको टेस्ट तो करना पड़ेगा ना। इसके लिए भी एक simple सा फंडा है। बस अपने future को imagine कीजिये की अगर मैं ये रास्ता अपनाता हु तो मेरा भविष्य कैसा होगा? और अगर आपको लगता है की बिल्कुल सही और खुशहाल होगा। में खुद से जो इच्छा रखता हूं वो सब पूरी होंगी तो आप set goals के इस process को आगे बढ़ा सकते हो।

और अगर आपको लगता है की जैसा भविष्य मैं चाहता हु वैसा नहीं बना सकता तो तुरंत एक स्टेप पीछे चले जाइए और दूसरा idea उठाकर उसपर ये try कीजिए। ऐसा तब तक करते रहिए जब तक की आप अपने future को imagination को लेकर पूरी तरह से satisfy नहीं हो जाते। और जब आपको कोई ऐसा रास्ता (idea) मिल जाये जिससे आपको लगता हो की आपका भविष्य बहुत अच्छा बनेगा। तब goal setting के इस सफर को एक और कदम आगे बढ़ाए।

  • अपना मुख्य लक्ष्य चुने

अब ऊपर की सभी steps को फॉलो करके आप किसी एक या अभी भी दो निर्णयों तक पहुच चुके होंगे। अगर आपने कोई एक लक्ष्य चुन लिया है तो congratulations! आप goal setting पूरी करने के बहुत नजदीक पहुच गए है। और अगर आप अभी भी दो निर्णयों पर अटके है तो आपको फिरसे एक बार ध्यान लगाकर इन सब tests को फॉलो करना होगा और उसके बाद उन दो dicisions में से आपको एक मुख्य लक्ष्य (main goal) चुनना होगा। तभी आप successful goal setting process में आगे बढ़ सकेंगे।

  • अपनी क्षमता को परखें

दोस्तों Goal Setting (Set goals) की process में अपनी क्षमता को जांचना बहुत बहुत important है। अगर आप बिना अपनी कार्यक्षमता को परखे ही कोई निर्णय लेंगे तो आपके fail होने के chances बहुत बढ़ जाते है। और आप जाने या अनजाने में way to success से मुकर जाते है। इसलिए आप चाहे जो भी target चुनिए, पर ये बात confirm कर लीजिए की आप उस काम को कर सकते है या नहीं।

अगर आप वो काम कर नही सकते तो भी कोई बात नहीं पर आपको इस बात को ध्यान में रखना होगा की आप वो चीज future में सिख भी पाएंगे या नही। और अगर आपको लगता है कि आप वो काम अच्छी तरह कर पाएंगे तो आप अपने उस काम को अपना final और मुख्य लक्ष्य बना सकते है।

  • अपने goal से संबंधित Research करे।

अब आपको अपना goal मिल गया है पर अभी भी आपका चुना गया goal सही है या नहीं इसकी क्या guarantee है। इसलिए अपना लक्ष चुनने के बाद बारी आती है उसे सही से परखने की मतलब की उसके बारे में रिसर्च करने की।
आप internet पर अपने goal से रिलेटेड जानकारी हासिल कर सकते है। और हमें ये भी पता लगाना जरूरी होता है कि इस बदलती दुनिया में आपके द्वारा चुना गया लक्ष्य सही है या नहीं। मतलब हमें उसका scope भी पता करना होगा और ये आप इंटरनेट की मदद लेकर आसानी से पता कर सकते है।

  • उस क्षेत्र में कार्यरत व्यक्तियों से Advice ले

इंटरनेट से जानकारी हासिल करने के बाद और उसके scope के बारे में पता करने के बाद बारी आती है किसी अनुभवी से advice लेने की… goal setting theory में अपने set goals process का ये आखिरी और सबसे जरूरी पॉइंट है।

अगर आपकी पहचान का कोई व्यक्ति आपके द्वारा चुने गए लक्ष्य के क्षेत्र में कार्यरत रहा हो तो आप उनसे contact करके उनका feedback जरूर ले। क्यू की उनको उस काम का पूरा अनुभव रहता है जिसमे अभी आपने कदम तक नहीं रखा। इसलिए अपना निर्णय final करके अपने लाइफ की goal setting करने से पहले एक बार किसी अनुभवी की राय जरूर ले ले। अगर आप एक student हो तो आप अपने teacher से भी इस बारे में चर्चा करके उस काम केे बारे में उनकी राय ले सकते है।

तो ये था आज का हमारा अपने जीवन में goal setting करने का how to set goals in life इस विषय पर हिंदी मार्गदर्शन। अगर आपको हमारा ये प्रयास अच्छा लगा हो तो प्लीज इस लेख को अपने मित्रों के साथ शेयर करके उनकी भी मदद करे। और आपका हमारे लिए कोई suggession हो तो comment करके बताए। धन्यवाद 🙂

Subscribe Us Via Email

Content Delivery By Success Veda

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *