सोशल मीडिया पर समय बर्बाद करने वाले लोग इस कविता को जरूर पढ़ें।Poem On Social Media

Poem on Social Media In Hindi For Students

सोशल मीडिया पोएम कविता


सोशल मीडिया का जाल चारों तरफ छाया है,

लोगों को attract करने के लिये नये-नये
features लाया है।
कहीं status तो कहीं filters का मोह माया है।
आलम ऐसा है जनाब कि सोते-जागते सिर्फ इसका ही
ख्याल आया है।
कितने like, कितने comment, कितना engagement पाया है।
इसी से दिन शुरू और इसी में रात बिताया है।
एक notification की रिंग सुन कर 
सबकुछ छोड़कर दौड़ा आया है,
एक आस लगी होती है,शायद like कोई बढ़ाया है,
या comment किसी का आया है।
इन उल जलूल के कामों में अपना दिमाग लगाया है।
अलग अलग pose में ढेरों फोटों खिंचाया है।
इस bubble reputation* के चक्कर में 
ना जाने कितना समय गवाया है।
अब तुम्हे खुद को समझाना होगा,
अपने दिमाग को लगाना होगा।
इस फालतू के चक्कर से बाहर निकलना होगा
इनकी सच्चाई को जानना और 
सामने आए रिजल्ट को मानना होगा।
क्या आपने कभी सोचा कि ये जो सोशल नेटवर्किंग
कंपनियां आपसे एक भी पैसा नही लेतीं,
तो अपने employee को salary कहाँ से देतीं ?
क्या आपने कभी गौर किया है कि जो छोटे छोटे ads
आपको बहुत भाते हैं,
आपके मन को कैसे पढ़ जाते हैं,
जो आपको पसंद हो वही stuff दिखाते हैं।
मतलब कुछ तो लोचा है,
जिसके बारे में आपने अभी तक नही सोचा है।

ये जो आप क्या खाया,कहाँ गया, क्या महसूस किया एक एक चीज बताते हो
उसका ये सब कच्चा चिट्ठा बनाते हैं
और उसको मार्केटिंग कंपनी को बेच कर
पैसा खूब कमाते हैं।

मतलब कहने को तो ये free services देते हैं
लेकिन असल में ये आपको ही as a service लेते हैं।

हम भूल जाते हैं ना जाने कितनी बार
हैकर्स ने इनकी privacy पर सेंध मारा है।
हमारे private data को खुले market में उछाला है।
कभी इनके develors ने अपनी गलती मानी
तो कभी हमें ही दोषी ठहराया है।

अभी सामने आए एक रिपोर्ट ने दावा किया,
अमेरिका में हुए चुनाव में सोशल मीडिया के जरिये brain wash का खुलासा किया।

फिर भी हम घर वालों से गुस्सा होकर,इन पर घंटों समय बिताते हैं,
जिन्हें हम जानते नही, पहचानते नही उनके रूठे होने पर comment में सांत्वना दिखाते हैं।

वह दोस्त जो सामने आने पर पहचानता नहीं,उसका भी मैंने love react देखा है
तो ऐसे रिश्ते की क्या अहमियत, जो सिर्फ एक धोखा है।

मैं सोशल मीडिया के खिलाफ नही हूँ
बस इतना ही कहना चाहता कि किसी भी चीज की
अति हानिकारक होता है
और सही से इस्तेमाल लाभदायक सिद्ध होता है।

तो दोस्तों आज से ही सोशल मीडिया का अत्यधिक इस्तेमाल करना छोड़ दो,
अपने जिंदगी को किसी अच्छे काम की तरफ मोड़ दो।

Bubble Reputation :-  क्षणिक प्रतिष्ठा

    कुछ और ज्ञानवर्धक पोस्ट जो आपको पढ़ने चाहिये

      मेरे प्यारे विद्यार्थी भाईयों अगर आपको यह कविता (Poem on social media in hindi ) पसंद आया तो इसे अपने सभी दोस्तों को शेयर करो जो सोशल नेटवर्किंग साइट का कीड़ा है।हमेशा बेवजह इस पर अपना समय बर्बाद करता है।जिससे वह भी सोशल मीडिया के addiction से बच सके।

      अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं।
      या हमें contactsuccessveda@gmail.com पर मेल भी कर सकते हैं।

      धन्यवाद।

      Subscribe to our mailing list

      * indicates required

      8 comments

      1. बहुत ही बढ़िया | मैं अपने स्कूल के नाटक में इसको सम्मिलित कर रही हूँ |

      2. Social media jab nahi tha rtab ka zamana achha thha, log conventional media hi use karte thhe,, aaj kal uss se bhi kahin jyada acchha media hai ussi pattern pe internet pe hi aur wo bhi world class hai aurtt free bhi hai jaise http://www.vov.media jisme intyeraction ki wajah se wo social mnedia type bhi hai. aur kyunkik social media ki apni jagah hai islikye wo best hai aaj kal ke hisab se.

        Time waste karna kadapi sahi nahi hai aur iss se kai bimariyan bhi ho rahi hain., Parantu logon ko ekhas dilana aisi kavitaen kafi hadd tak kaamyaab ho sakti hain, ye prayas zarur sarthak hoga!

      Leave a Reply

      Your email address will not be published. Required fields are marked *